This page uses Javascript. Your browser either doesn't support Javascript or you have it turned off. To see this page as it is meant to appear please use a Javascript enabled browser.
Uttar Pradesh Waqf Vikas Nigam Limited / About Us / Objects

Objects

निगम के मुख्य उद्देश्य

  • औकाफ के विकास के लिये उन पर व्यावसायिक एवं आवासीय केन्द्रों, दुकानों, दफ्तरों, हाॅस्टलों, होटलों एवं स्कूलों के निमार्ण हेतु योजना बनाने, उनपर कार्यान्वयन कराना एवं मरम्मत आदि का कार्य कराना।
  • वक़्फ़ सम्पत्तियों पर आवासीय कालोनियों की स्थापना करने की योजनायें बनाना एवं निर्माण कराना।
  • वक्फ की आय बढ़ाने के उद्देश्य से वक्फ सम्पत्तियों पर व्यवसायिक अथवा औद्योगिक केन्द्रों की स्थापना हेतु वित्तीय सहायता एवं तकनीकी जानकारी तथा सभी आवश्यक सहायताऐं उपलब्ध कराना।
  • मस्जिदों, दरगाहों, इमामबाड़ों आदि का विकास अनुरक्षण एवं मरम्मत कराना।
  • वक्फ की ओर से मुसाफिर खानों, हास्टलों, लाईब्रेरियो, स्कूलों एवं तकनीकी व्यवसाय की स्थापना कराना।
  • वक्फ संस्थाओं, मुतवल्लियों एवं वक्फ के लाभग्रहताओं को लघु उद्योग आदि स्थापित करने में सहायता देना, तकनीकी जानकारी प्रदान करना, तकनीकी संस्थायें एवं शोघ प्रयोगशालायें स्थापित करना।
  • आवासीय सहकारी, उपभोगता सहकारी, औद्योगिक सहकारी एवं कृषक सहकारी संस्थायें स्थापित करने में मुतवल्लियों एवं वक्फ के लाभग्रहताओं को सहायता प्रदान करना।
  • विभिन्न दरगाहों तथा मुस्लिम तीर्थ स्थानों, तीर्थ यात्रियों एवं जायरीन को सहायता, विश्राम गृह और उससे सम्बन्धित सुविधा प्रदान करना तथा दरगाहों के वार्षिक उर्स आदि का प्रबन्ध करना।
  • वक्फ संस्थाओं के लिये अभियन्त्रण, ठेकेदारी तथा परामर्शदाता के रूप में कार्य करना।
  • निगम के बुनियादी ढांचे, कार्यक्षमता, मानव शक्ति के अधिकतम उपयोग के साथ अभियन्त्रण, वास्तुविद, ठेकेदार, परामर्शदाता, निर्माणकर्ता, सम्पत्ति विकासकर्ता, वर्किंग/एक्जीक्यूटिंग/इम्पलीमेंन्टिग एजेन्सी के रूप में सर्विस चार्जेज, सुपरविजन चार्जेज तथा सेन्टेज लेकर कार्य करना। सरकारी अर्द्धसरकारी विभागों अथवा प्राधिकरणों, निगमों, संस्थाओं, स्वायत्तशासी संस्थाओं, स्थानीय निकायों और प्रशासन की ओर से प्रदत्त निर्माण कार्यो, विशिष्ट रूप से सृजित किये गये निधियों के अन्तर्गत किसी विकास कार्यों अथवा लोकसभा/विधानसभा/विधान परिषद, नगर निगमों अथवा स्थानीय निकायों के मा0 सदस्यों के विवेकाधीन कोटे से सम्बन्धित विकास/निर्माण कार्यों को प्राप्त कर सम्पन्न कराना।